Design a site like this with WordPress.com
Get started

SHE , A WORRIER…

” MOTHER ALWAYS WINS A WAR “ In a dark cloudy day mother gave birth to a boy who was begging for a shelter and food right from his first cry. There were no hospitals no celebrations for his arrival. But nature was so kind to him . Nature welcomed him by a thunder songContinue reading “SHE , A WORRIER…”

Advertisement

LIFE A RACE…

” JUST MOVE AHEAD , YOU ARE NOT DEAD. “ Failure was riding fast in a bilateral race with success in life. Hard work was not paying off, abilities were not noticed and results were always judged. The fregrence of life smelled so foul to self that senses stopped working. The days of failure continuedContinue reading “LIFE A RACE…”

सुराग

मैं जब खुदको ढूँढ रहा था…तब मुझे मेरे कुछ सुराग मिले थे… जब तक खुदसे खुद का ताअरुफ़ हुआ…पन्नों पर स्याही के छींटे , मेरी कहानी लिख चुके थे..!! :-प्रथमेष🖋

फुर्सत

तुम कहो तो फुर्सत से आता हूं…आते वक्त फुर्सत से फुर्सत वाला वक्त ले आता हूं… गिले-शिकवे तो बहुत होंगे महफिल में…तुम कहो तो थोड़ा सा सुकून ले आता हूं… भगदड़ सी मची है जिंदगी में…तुम कहो तो थोड़ी फुर्सत खरीद ले आता हूं…!! :-प्रथमेष🖋

🌚

कितनी काली होती हैं ये उजली रातें…पूछ जाकर उनसे जिनके घर पर छत नहीं होती… सुबह का सवेरा तू क्या देखेगा…तेरी तो उनकी तरह धूप से रूबरू बात भी नहीं होती…!! :-प्रथमेष 🖋

वो क्या है कि मैं रोता नहीं हूँ…

वो क्या है कि मैं रोता नहीं…आंसूओ को समेट कर समंदर बना रहा हूँ… लोगों को मैं थोड़ा बेपरवाह नज़र आ रहा हूँ…इस किराय की हँसी से ज़िंदगी की हार छुपा रहा हूँ… वो क्या है कि मैं लाचार नहीं बन पा रहा हूँ…आंसूओ से कमाई भीड़ का हकदार नहीं बनना चाह रहा हूँ… मेरीContinue reading “वो क्या है कि मैं रोता नहीं हूँ…”

…!!

मैं बोलता नहीं सिर्फ़ शब्द लिखता हूँ…मिठास से थोड़ा इसीलिए फासला सा रखता हूँ… कि कहीं ज़िंदगी मिठाई की तरह दाढ़ में चिपक न जाए…कड़वी ही सही, कोई दवा समझकर निगल ही जाए…!! :-प्रथमेष 🖋

वो गर्म चाय ☕

गली के चौराहे पर एक महफिल सज रही थी…गर्म आँच पर अदरक वाली चाय उबल रही थी… लबों पर गरमाहट और दिल को राहत पहुँचा रही थी…वो गर्म चाय आते जाते लोगों को अपने करीब बुला रही थी… अनजान लोगों को एक मुक़ाम पर जानकार बना रही थी…वो चाय की टपरी हम दोस्तों का रोजContinue reading “वो गर्म चाय ☕”

क्या ?

शब्द न समझ सके तो…चुप्पी क्या पड़ सकोगे तुम… इस अजीब से रवैये से…क्या मुझे हरा सकोगे तुम… बेपनाह ज़िंदगी के इन आवारा सपनों को…क्या पूरे कर सकोगे तुम… इस उबाल खाती गर्म मंज़िल को…क्या अपने कोरे हाथों से छू सकोगे तुम… समंदर की उन लहरों को भी अभिमान है खुदपर…क्या अपनी कश्ती को उसContinue reading “क्या ?”

STORY OR THEORY…

Make Rules at your own circumstances…Do amendments according to the society preferences… Draft your life as a story or theory…Your own people will kill you to achieve the glory… Show your tears only to the mirror…You yourself are stronger enough to trigger… Find your own way to overcome…Believe that your story or theory will inspireContinue reading “STORY OR THEORY…”

अपनी ज़िंदगी…

आँखो से सोचना बंद करोगे तो दिमाग कि अहमियत पता चलेगी… अपने दिल को जोड़ कर रखोगे तभी तो उसकी धड़कन सुनाई देगी… माँ से कभी खाना खाया ये पूछ कर देखना उसके कलेजे को भी ठंडक पहुँचेगी…अपनी इज्ज़त से जीवन को खुद के उसूलों से जीना , ज़िंदगी और भी हसीन लगने लगेगी… दुनियाContinue reading “अपनी ज़िंदगी…”

बदलाव

लोग बदले , हालात बदले…मगर मेरे जीने के अंदाज़ न बदले… कहावत को हकिकत में बदला…ज़माने को आईना दिखाया मगर कभी खुदका हुलिया न बदला… मंज़िल भी नहीं बदली , रास्ता भी न बदला…हम चलने वाले ने अपना जज़्बा भी न बदला… था शौक ए कदर इस कदर ज़िंदगी का मुझ पर…के अरसो से मंज़िलContinue reading “बदलाव”

रात 🌃

ये रातें बहुत कुछ बता देती है…इसी लिए मुझे छोड़ सभी को सुला देती है… चाँद सितारों से रोज़ वो महफिल सजती है…कुछ अनकही बातें भी बेख़ौफ लफ्ज़ो में निकलने लगती है… कई लोगों के गिला शिकवा समेट कर अपने साथ ले जाती है…जाते जाते नींद में सुबह के हसीन सपने दिखा जाती है… सभीContinue reading “रात 🌃”

ज़रूरी है या नहीं…

कामयाबी हर किसी को पचती नहीं…हकिकत छुप जाती है,मगर बदलती नहीं… कोई रोके तो थम जाऊ , खड़ा हो तो झुक जाऊ…क्या करू ऐसा तो मेरी फ़ितरत में नहीं… रोकने वाले हज़ार हाथ को काटना के लिए शाहजहाँ बनना तो मजबूरी है…सहारा देने वालो के लिए एकलव्य बनना भी ज़रूरी है… ये ज़रूरी तो नहींContinue reading “ज़रूरी है या नहीं…”

पैसा…

पैसे से अगर दुनिया चलती…तो हर रोज हर पल तकदीर बदलती… कई लोगों ने ईमान तोल दिया पैसों पर…मैने उन्हें छोड़ दिया उसी वक्त, उसी हाल पर… भरी होगी उनकी जेब पैसों से…मेरा नसीब भरा है , मेरे दोस्तों से… कहाँ ले जायेंगे उस पैसे के गुरूर को…न कफन में जेब है, न कब्र मेंContinue reading “पैसा…”

हालात…

दिन दिन करके ज़िंदगी धक रही है…मुँह पर कपड़ा डाल दिल में घुटन सी हो रही है… हालातों के शिकंजे में इस कदर आ खड़े है…बेचैनी के मानो पहरे लग रहे है… सवाँरा हुआ कल पीछे खड़ा था, मगर हम तबाही का मंज़र चुन रहे है…लगता है, कायनात से रोज़ बिछड़े पल की भीख मांगContinue reading “हालात…”

ये वक्त भी गुज़र जाएगा…

ये वक्त भी गुज़र जाएगा…हिम्मत रख तू भी उभर कर आएगा… अच्छा हो या बुरा समय बितता ज़रूर है… जो लड़ गया वो जीतता ज़रूर है… अपनी मंज़िल को पाने की चाहत तो बड़ा…रास्ते सर झुकाऐ खड़े होंगे , तू कदम तो बड़ा… हौसला रख तू भी विजय पाएगा…तेरा नाम भी रोशन हो जाएगा… येContinue reading “ये वक्त भी गुज़र जाएगा…”

हार का वो सफर..🛤

गुज़रती हवा में वो खुशबू नहीं थी… ज़िंदगी गुमसुम सी बस एक मोड़ पर खड़ी थी… झूठी मुस्कान उस चेहरे पर ज़रुर आती थी… मगर दिल में अजीब सी मायूसी फिर से छा जाती थी… नकामयाबी का वो मंज़र इस कदर आ खड़ा था… उस दौर में हार से भी हारा हुआ लगने लगा था…Continue reading “हार का वो सफर..🛤”

ज़िंदगी दो पल की..

न जीने की ख्वाहिश , न मरने का इरादा… ऐसे ही बीत जाता ये जीवन सारा… अपनो को खोकर , गैरो को सँवारना… इसे ही कहते है इंसानियत को मारना… खून पसीना बहाकर ज़िंदगी गुज़ारना… उसे कहना बस हिम्मत मत हारना… आँखें खोलकर हसीन सपने सजाना… इंसान हो फरिश्ता नहीं,वापस लौटकर आजाना !! :-प्रथमेष 🖋